Media & Advet.

Media & Advet. / Current Events

Current Events

  • Vihan

  • Current Events

    IT Security and Network Seminar
  • Current Events

    Vihan Singing Competition
  • Current Events

    Vihan Guli Cricket
  • Current Events

    Vihan Dance Competition

 

Current Event

राधारमण के स्टूडेंट्स समझी इंडस्ट्री की बारीकियां
04-11-2016

भोपाल। प्लेसमेंट के पहले ही समझना बेहद जरूरी है कि कंपनियों में किस तरह का वर्क कल्चर होता हैए कैसे आदमकद मशीनें लगातार घंटों काम करती हैं। कैसे एक लंबी प्रोसेस के बाद एक प्रोडक्ट तैयार होता है। मैन्यूफैक्चरिंग इंडस्ट्री से जुड़ी कुछ ऐसी ही बातें रविवार को राधारमण ग्रुप के स्टूडेंट्स को समझने को मिलीं। मौका था ग्रुप के पॉलीटेक्निक मैकेनिकल डिपार्टमेंट के स्टूडेंट्स की इंडस्ट्रियल विजिट का। स्टूडें्स की इंडस्ट्रियल विजिट गोविंदपुरा इंडस्ट्रियल एरिया स्थित यूनाइटेड इंजीनियरिंग प्राइवेट लिमिटेड में कराई गई। विजिट में स्टूडेंट्स ने इंडस्ट्री में इस्तेमाल होने वाली एडवांस मशीनों, सीएनसी मशीनों और बेल्डिंग टेक्नीक की बारीकियों को समझा। इस दौरान मैकेनिकल डिप्लोमा इंजीनियरिंग के हेड अरुण कुमार भुनेरिया, एलके पटेल और फैकल्टी मनीष शर्मा शामिल थे। समूह के चेयरमेन आर आर सक्सेना ने कहा कि समूह द्वारा समय समय पर इस प्रकार की इंडस्ट्रियल विजिट से विद्यार्थियों को उद्योग जगत के व्यावहारिक पहलुओं को जानने व समझने का मौका मिलता है। इससे वे भविष्य के लिये भली प्रकार तैयार होते हैं।

  More Detail
Current Event

राधारमण के छात्र तनुज ने बनाया मोडिफाइड ग्रीन-हाउस ड्रायर छात्र के इस प्रोजेक्ट पर 3 र
18-10-2016

राधारमण के छात्र तनुज ने बनाया मोडिफाइड ग्रीन-हाउस ड्रायर छात्र के इस प्रोजेक्ट पर 3 रिसर्च पेपर इंटरनेशनल जनरल में पब्लिश हो चुके हैं भोपाल। राधारमण इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के थर्मल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट के स्टूडेंट्स ने हाल ही एक ऐसा सोलर ग्रीन-हाउस ड्रायर तैयार किया है, जो ओपन एयर ड्रायर और वर्तमान ड्रायर की तुलना में कई गुना अधिक कारगर है। राधारमण इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस के मैकेनिकल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट के एचओडी प्रो. अजय सिंह और डॉ. विशाल गुप्ता के मार्गदर्शन में यह मोडिफाइड ग्रीन हाउस ड्रायर तैयार किया एमई सोलर इंजीनियरिंग के स्टूडेंट तनुज कुमार साहू ने। ने बताया, उनका मोडिफाइड ग्रीन-हाउस ड्रायर भोपाल के लॉन्गीट्यूड के हिसाब से तैयार किया गया है। ड्रायर की छत को इस तरह से कोण पर तिरछा किया गया है कि पूरे दिन सामान्य तापमान की तुलना में ड्रायर के भीतर अधिक गर्मी रहे। साथ ही, मोडिफाइड ड्रायर में ह्यूमिडिटी को कम करने के लिए भी खास काम किया है। तनुज का मोडिफाइड ड्रायर सामान्य ड्रायर की तुलना में आलू के चिप्स को 1 घंटे पहले सुखाने की क्षमता रखता है। साथ ही, यह चारों ओर से बंद होने के कारण ओपन ड्राय करने के तरीके से ज्यादा सेफ है। इसमें इंनसेक्ट और डस्ट के आने का खतरा भी नहीं रहता। इस तकनीक का उपयोग ग्रामीण क्षेत्रों में एग्रीकल्चरल ड्रायर के तौर पर किया जा सकता है। राधारमण ग्रुप के चेयरमैन आरआर सक्सेना ने बताया की छात्र के इस प्रोजेक्ट पर 3 रिसर्च पेपर इंटरनेशनल जनरल में पब्लिश हो चुके हैं छात्र की इस उपलब्धि के लिए बधाई देते हुए कहा भविष्य में इस प्रकार के प्रोजेक्ट के लिए छात्रों को सदैव प्रोत्साहित किया जाएगा

  More Detail
Current Event

राधारमण के छात्र जुड़े स्वच्छ भारत अभियान से
14-10-2016

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के 100 छात्रों का एक समूह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा आरंभ किये गए स्वच्छ भारत अभियान से सक्रिय रूप से जुड़ गया है। समूह का प्रत्येक सदस्य कम से कम अपने साथ न केवल 10 और लोगों को जोड़कर शहर और गांव में नियमित रूप से सफाई अभियान चलाएगा बल्कि हजारों अन्य लोगों को सफाई के लिए प्रेरित करेगा। राधारमण समूह के राधारमण इन्स्टीट्यूट आफ टेक्नालॉजी एण्ड साइंस के सिविल इंजीनियरिंग विभाग द्वारा की गई इस पहल का उद्देश्य महात्मा गांधी के स्वच्छ भारत अभियान को साकार करना है। इस संबंध में समूह परिसर में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें समूह के चेयरमेन आर आर सक्सेना, ग्रुप डायरेक्टर प्रोफेसर जे एल राणा तथा सीनियर डायरेक्टर गायत्री अग्निहोत्री तथा आरआईटीएस के डायरेक्टर आर के पाण्डे ने 100 विद्यार्थियों को सफाई अभियान की शपथ दिलाई। इस सफाई अभियान की शुरूआत राधारमण परिसर से समूह के चेयरमेन आर आर सक्सेना व समूह के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने झाड़ू लगाकर की। इसके बाद विद्यार्थियों का एक दल रातीबड़ स्थित बाजार पहुंचा जहां उन्होंने ने सड़क और दुकानों के सामने व आसपास फैले कचरे का साफ किया व एकत्रित कचरे को नियत स्थान पर पहुंचाया। इस दौरान विद्यार्थियों ने दुकानदारों तथा आमजनों को कचरा यहां वहां फैकने की बजाय कचरा पेटी में डालने व स्वच्छता बनाये रखने का आह्वान भी किया।

  More Detail
Current Event

राधारमण के छात्रों से रूबरू हुए भोपाल के समाजसेवी सुशील अग्रवाल, मेरा सफर अब तक सफल व्
13-10-2016

राधारमण में आयोजित हुआ मेरा सफ़र कार्यक्रम असफलता की कहानियों में मिले सफल बनने के नुस्खे भोपाल। असफलता का सामना हर व्यक्ति को करना पड़ता है, लेकिन वो व्यक्ति ही सफल होता है। जो असफलता को अपने ऊपर हावी नहीं होने देता। यह बात कही बिजनेस टायकून व समाजसेवी सुशील अग्रवाल ने। वे राधारमण ग्रुप में आयोजित कार्यक्रम मेरा सफर अब तक. में बतौर मुख्यवक्ता शामिल हुए। संघर्ष से सफलता तक पहुँचे लोगों की सफलता की कहानी को साँझा करने के लिये इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर सुशील अग्रवाल ने कहा, अक्सर लोग असफलताओं से भागने की कोशिश करते हैं। ऐसे समय में लोगों से मिलना छोड़ देते हैं और खुद को किसी कमरे में कैद कर परेशानियों से मुक्त मानते हैं। ऐसा करने पर असफलता आप पर हावी होने लगती है और आप गहरे तनाव में पहुंच जाते है। मैंने अपनी असफलताओं को अपना गुरु बनाया और हर बार कुछ नया सीखने की कोशिश की। सुशील अग्रवाल ने कॉलेज के छात्रों से साँझा किया कि मैंने भोपाल के एमवीएम कॉलेज से एमएससी की पढाई की और माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय से न्यूज़पेपर मैनेजमेंट का कोर्स किया । इसके बाद भोपाल में ही अपना पहला जॉब एक प्रतिष्ठित न्यूज़पेपर से शुरू किया। नौकरी के दौरान ही सोचा क्यों ना खुद का बिजनेस किया जाए। सोच को धरातल पर लेकर आया और मध्या एडवरटाइजिंग की शुरुआत की।बिजनेस और जीवन में कई उतार-चढ़ाव आए लेकिन खुद को स्थापित किया।उन्होंने छात्रों से कहा, ईमानदारी मेहनत लगन से काम करें। संसार में नेगेटिव और पॉजिटिव दोनों एनर्जी होती हैं, हमेशा पॉजिटिव सोचिए। मेरे परिवार में कोई बिजनेस में नहीं था मैंने हिम्मत जुटाई और एक नए काम की शुरुआत की। इस अवसर पर राधारमण ग्रुप के चेयरमैन आरआर सक्सेना ने कहा, अपने अनुभवों से हर व्यक्ति सीखता है। लेकिन काम उम्र में यदि दूसरों के अनुभवों से सीखने की क्षमता विकसित हो जाए तो व्यक्ति को सफल होने में ज्यादा समय नहीं लगता। युवाओं में इस समझ को विकसित करने का यह सबसे सही समय है। सुशील के अनुभवों से छात्रों को बेशक कुछ नया सीखने को मिला होगा।

  More Detail
Current Event

बीई फोर्थ सेमेस्टर में राधारमण के शानदार परीक्षा परिणाम
10-10-2016

भोपाल। राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय द्वारा घोषित बीई फोर्थ सेमेस्टर के परीक्षा परिणामों में राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के विद्यार्थियों ने एकबार फिर शानदार प्रदर्शन किया है। प्राप्त परिणामों के मुताबिक राधारमण इन्स्टीट्यूट ऑफ टेक्नालॉजी एण्ड साइंस की कम्प्यूटर साइंस छात्रा सम्भावी सुमन, ईएक्स ब्रांच के विजय गुप्ता तथा मेकेनिकल इंजीनियरिंग ब्रांच की मृणालिनी शर्मा ने 8.75 एसजीपीए के साथ अपने-अपने विषयों में कॉलेज की प्रावीण्य सूची में प्रथम स्थान प्राप्त किया। राधारमण इंजीनियरिंग कॉलेज की ईसी की छात्रा आयुषी जैन 8.27 द्वितीय एवं सीई ब्रांच के दानिश हसन 8.50 एसजीपीए के साथ कॉलेज में प्रथम आए। इसी प्रकार राधारमण इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एण्ड टेक्नालॉजी की सीई ब्रांच के आयुश अरजरिया ने 8.56 एसजीपीए के साथ कॉलेज की प्रावीण्य सूची में प्रथम स्थान प्राप्त किया। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट््यूट्स के चेयरमेन आर आर सक्सेना ने सभी सफल विद्यार्थियों को शुभकामनाएं देते हुए भविष्य में और बेहतर परिणाम हासिल करने को कहा है। उन्होंने कहा कि समूह में उपलब्ध आईआईटी व मैनिट आदि से निकले उच्च शिक्षित एवं अनुभवी फैकल्टी मेम्बर्स व विश्वस्तरीय शिक्षण सुविधाओं के चलते समूह साल दर साल अच्छे परिणाम हासिल कर रहा है

  More Detail
Current Event

राधारमण में छात्रों के लिए व्यक्तित्व विकास पर हुआ व्याख्यान
06-10-2016

भोपाल। काम छोटा हो या बड़ा.. हर व्यक्ति इसे अपने अपने तरीके से करता है। कुछ काम में रूचि लेते हैं और कुछ लोगों के लिए उनका काम बस एक काम होता है। अच्छे परफॉर्मेंस के लिए बेहद जरूरी है कि आप अपनी रूचि को पहचानें और उसी के अनुसार अपने करियर को चुनें। यह बात कही डॉ. राजा मालकोटि ने। राधारमण ग्रुप के छात्रों के लिए आयोजित विशेष व्याख्यान में बतौर मुख्य वक्त बोल रहे थे। छात्रों को उन्होंने इस मौके पर ब्रेन डेवलपमेंट से जुडी गतिविधियों के बारे में भी जानकारी दी। व्याख्यान का आयोजन एमबीए विभाग की ओर से किया गया।लंबे समय से स्टूडेंट्स के व्यक्तित्व विकास और उनकी रूचि के अनुसार काम चुनने और करने में मदद कर रही संस्था समाधान के डायरेक्टर डॉ. मालकोटि ने इस मौके पर कहा, आज के समय में हर फील्ड में काम का अथाह प्रेशर है। जिसके कारण तनाव बढ़ता है और इस तनाव से आज का युवा सबसे ज्यादा प्रभावित होता है। ऐसे में युवाओं को चाहिए कि वे समय प्रबंधन को अपनाएं और अपने कार्य क्षेत्र में हर रोज़ कुछ नया और रोचक तलाश करें। दिमाग की एकाग्रता को बढ़ाने के लिए पोषक आहार खाएं, फ़ास्ट फ़ूड से जितना हो सकें दूरी बनाएं और अपनी दिनचर्या को सही रखें। आज के युवाओं ने अपनी दिनचर्या बिलकुल उलटी कर ली है। वे पूरी रात जाग कर काम करना पसंद करते हैं, लेकिन इससे इंसान का बॉडी क्लॉक प्रभावित होता है और आप तरोराज़ नहीं रह पाते। जीवन में योग और व्यायाम को थोड़ा समय देने का सुझाव भी डॉ. मालकोटि ने इस अवसर पर दिया। इस मौके पर राधारमण ग्रुप के चेयरमैन आरआर सक्सेना ने कहा, कॉलेज से पढाई ख़त्म कर हमारे छात्र जब कार्यक्षेत्र में अपना हुनर दिखाएं, तो उनको कोई परेशानी ना उठानी पड़े। यह व्याख्यान युवाओं को भविष्य के लिए तैयार करने के लिए आयोजित किया गया है। इससे छात्रों को जरूर फायदा होगा। समय प्रबंधन को युवा अभी से अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। कार्यक्रम ने आरआईटीएस के निदेशक डॉ. आरके पाण्डेय, . सूर्यदेव सिंह, श्रीमती सुभाषिनी सागर समेत सभी विभागों के विभागाध्यक्ष शामिल हुए।

  More Detail
Current Event

सफल होने के लिए हार्ड वर्क से ज्यादा जरूरी है स्मार्ट वर्क
04-10-2016

सफल होने के लिए हार्ड वर्क से ज्यादा जरूरी है स्मार्ट वर्क राधारमण में सफल व्यक्तियों के जीवन पर आधारित श्रृंखला मेरा सफर अब तक भोपाल। सफल होने के लिए हार्ड वर्क से ज्यादा जरूरी है स्मार्ट वर्क करना। यह बात शहर के जाने माने रेस्टारेंट टेस्ट ऑफ इंडिया के सीएमडी जी प्रदीप ने राधारमण समूह के इंजीनियरिंग, फार्मेसी तथा एमबीए विद्यार्थियों से कही। वे समूह द्वारा सफल व्यक्तियों के जीवन पर आधारित श्रृंखला मेरा सफर अब तक के तहत आयोजित एक सेमीनार को संबोधित कर रहे थे। भोपाल में जन्में श्री प्रदीप ने बताया कि भोपाल से ही होटल मैनेजमेंट का कोर्स कर एक अच्छा शेफ बनने के लिए वे मुम्बई गए जहां काफी संघर्ष के बाद उन्हें लीला होटल में पहला जॉब मिला इसके बाद उन्होंने कुछ बड़े विदेशी होटलों में भी काम किया।लेकिन अपने देश वह देश के कल्चर से हमेशा जुड़े रहे अपने काम के साथ साथ किताब पढ़ने के शौक के चलते एक दिन उनके हाथ नेपोलियन हिल्स द्वारा लिखित किताब सोचो और अमीर बनो लगी। इसने उन्हें खुद का काम आरंभ करने और कुछ बड़ा करने के लिए प्रेरित किया। वर्ष 1999 में वे भोपाल लौट आए और रेस्टारेंट की शुरूआत की। आज इस रेस्टारेंट में 200 से अधिक लोगों को वे रोजगार दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि टाइम मैनेजमेंट ही बिजनेस मैनेजमेंट है क्योंकि टाइम इज मनी। वे हमेशा कुछ नया करने तथा अपने ग्राहकों को कुछ बेहतर देने की वजह से लगातार अपने कारोबार में तरक्की पा रहे हैं। इस अवसर पर राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर आर सक्सेना ने कहा कि विद्यार्थियों को श्री प्रदीप से समय के प्रबंधन और स्मार्ट तरीके से पढ़ाई करने की सीख लेना चाहिए ताकि वे कम समय में अपने विषयों को ज्यादा अच्छी तरह से समझ सकें और सफलता पाने के इस सुझाव को अभी से अपने जीवन में लागू कर सकें।

  More Detail
Current Event

राधारमण के छात्रों को सिखाए फिट रहने के तरीके, विशाल फिटनेस प्लानेट से आए, विशाल वर्मा
28-09-2016

राधारमण के छात्रों को सिखाए फिट रहने के तरीके, विशाल फिटनेस प्लानेट से आए, विशाल वर्मा ने... राधारमण में मेरा सफर कार्यक्रम में विशाल फिटनेस के डायरेक्टर ने की विद्यार्थियों से बात भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स ने सफल व्यक्तियों संघर्ष के सफर पर आधारित आरंभ की गई श्रृंखला मेरा सफर अब तक...के तहत भोपाल में विशाल फिटनेस प्लेनेट सेंटर की श्रृंखला चलाने वाले विशाल वर्मा ने समूह के विद्यार्थियों से नौकरी से लेकर एक सफल बिजनेस बनने तक की यात्रा के अनुभव साझा किये। समूह के इंजीनियरिंग, एमबीए, फार्मेसी तथा डिप्लोमा पाठ्यक्रम के विद्यार्थी इस कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। श्री शर्मा ने बताया कि कहा कि छात्रों को पढ़ाई के सााथ साथ अपनी पर्सनल्टी और फिटनेस पर भी ध्यान देना चाहिए क्योंकि आपकी पर्सनाल्टी से ही आप की पहली छवि बनती है, खासकर जब आप कहीं इंटरव्यू देने जाते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि हर छात्र में एक प्रतिभा छुपी होती है पढ़ाई के साथ-साथ उस प्रतिभा को निखारने की कोशिश भी करना चाहिए क्योंकि बहुत से मामलों में आपकी हॉबी ही आपको एक अच्छा करियर दे जाती है। जो छात्र अपने कारोबार में आने की सोच रहे हों उन्हें बिजनेस को बढ़ाने के लिए क्वॉलिटी, अनुशासन व ईमानदारी जैसे तीन बिंदुओं को हमेशा ध्यान में रखना चाहिए। श्री वर्मा ने आगे कहा कि यदि आप यह सोचते हैं कि फलां चीज से तो बाजार भरा पड़ा है इसलिए किसी नई चीज में हाथ आजमाना चाहिए, तो आप गलत हैं। हर वक्त मौजूदा बाजार में नई संभावनाएं बनी रहती हैं, जरूरत सिर्फ उन्हें पहचानने व ग्राहक की जरूरत के मुताबिक अपनी पोजिशनिंग करने की जरूरत होती है। उन्होंने पहले से मौजूद अनेक फिटनेस क्लबों के बीच अपना क्लब आरंभ किया और अपना अलग मुकाम बनाया। अपनी सफलता की कहानी बताते हुए उन्होंने कहा कि वे जम्मू में इंजीनियरिंग व कंस्ट्रक्शन कंपनी लॉर्सन एण्ड टूब्रो कार्यरत थे जहां से उनका भोपाल स्थानांतरण हुआ। अपने को फिट रखने के शौकीन श्री शर्मा ने भोपाल में कुछ फिटनेस क्लब ज्वाइन किए लेकिन वहां उन्हें मनमाफिक सुविधाएं व स्वच्छता नहीं मिलने के चलते उन्होंने तय किया कि वे स्वयं का जिम आरंभ करेंगे। कुछ मशीनें खरीदकर उन्होंने अपनी नौकरी के साथ साथ यह काम आरंभ किया। उन्हीं के ऑफिस के 8-9 कर्मचारी उनके पहले ग्राहक बने। इसके बाद यह काम चल पड़ा और मांग को पूरा करने उन्होंने न केवल नौकरी छोड़ी बल्कि बड़ा स्थान व ज्यादा मशीनें लेकर काम को आगे बढ़ाया। आज शहर के विभिन्न क्षेत्रों में उनके फिटनेस सेंटर हैं। इस अवसर पर राधारमण समूह के चेयरमेन आर आर सक्सेना ने अपने उद्बोधन में श्री शर्मा की बात का समर्थन करते हुए कहा कि अवसर हमारे चारों ओर हमेशा मौजूद रहते हैं। हम आंख, नाक व कान खुले रखकर उन्हें पहचान व पकड़ सकते हैं।

  More Detail
Current Event

राधारमण में मेरा सफर कार्यक्रम में रोडनी फर्नांडिस ने की विद्यार्थियों से बात
24-09-2016

राधारमण के मेरा सफर अब तक में रोडनी फर्नांडिस ने की विद्यार्थियों से बात भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स ने सफल व्यक्तियों के सफर पर आधारित हाल ही में आरंभ की गई श्रृंखला मेरा सफर अब तक...के तहत जानी मानी कंपनी डेल्टा इंजीनियरिंग के युवा प्रबंध निदेशक मेकेनिकल इंजीनियर रोडनी फर्नांडिस को आमंत्रित किया। समूह के इंजीनियरिंग तथा डिप्लोमा के विद्यार्थियों के लिए आयोजित इस कार्यक्रम में श्री फर्नांडिस ने उद्यमी (एंटरप्रेन्योर) बनने की उनकी यात्रा के अनुभव साझा करने के साथ साथ व्यक्तिगत एवं पेशेवर जीवन में सफल होने के लिए उपयोगी टिप्स भी दिए। सदैव सीखते रहना, बहुत सोच विचारकर कार्ययोजना बनाना और धैर्य के साथ काम करते रहने को उन्होंने अपनी सफलता का सूत्र बताया। सर्वेक्षण संस्था नेस्कॉम द्वारा जारी आंकड़ों की चर्चा करते हुए श्री फर्नांडिस ने कहा कि केवल 17.5 प्रतिशत ग्रेजुएट्स ही रोजगार में लेने लायक होते है। इसका मतलब समझाते हुए उन्होंने कहा कि किताबी ज्ञान के साथ साथ विद्यार्थियों को उद्योग जगत की मांग के अनुरूप अपने स्किल्स को भी विकसित करना चाहिए ताकि वे तुरंत काम पर लिये जाने योग्य बन सकें। साथ ही उन्हें नए-नए आयडियाज पर भी काम करना चाहिए तथा कुछ हटकर सीखने व करने के लिए प्रयास करते रहना चाहिए। इस अवसर पर राधारमण ग्रुप के चेयरमेन आर आर सक्सेनाने कहा कि निसंदेह श्री फर्नांडिस द्वारा बताये गए सफलता के सूत्र व्यवहारिक हैं तथा इन पर चलकर विद्यार्थी अपनी सफलता का मार्ग प्रशस्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि सीखते रहना एक जीवनपर्यन्त चलने वाली प्रक्रिया है जिसका हमारी सफलता में महत्वपूर्ण योगदान होता है।

  More Detail
Current Event

राधारमण में सफल व्यक्तियों के सफर पर आधारित कार्यक्रम मेरा सफर मैं आए:आरटीआई एक्टिव
21-09-2016

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स में विद्यार्थियों के व्यक्तित्व विकास व भविष्य निर्माण के मद्देनजर सफल व्यक्तियों के सफर पर आधारित मेरा सफर अब तक...नामक कार्यक्रम आरंभ हुआ। इस कार्यक्रम की पहली कड़ी को जाने माने आरटीआई एक्टिविस्ट अजय दुबे ने संबोधित किया जिसमें समूह के इंजीनियरिंग, एमबीए, फार्मेसी तथा डिप्लोमा पाठ्यक्रम के विद्यार्थियों ने पूरे मनोयोग से सुना। भोपाल में जन्मे व पले बढ़े श्री दुबे ने विद्यार्थियों को सूचना का अधिकार की शुरूआत, इसके महत्व तथा एक जागरूक नागरिक बन आस पास कुछ भी गलत हो रहा हो तो उसका विरोध करें इसके प्रयोग से सामाजिक बदलाव लाये जाने संबंधी जानकारी प्रदान की। उन्होंने कहा कि हमें रिश्वत को न कहना होगा तभी हम भ्रष्टाचार से मुक्ति पा सकते हैं। जब आम नागरिक अपने अधिकारों के प्रति जागरूक बनेगा तभी वह भ्रष्टाचार के खिलाफ खड़ा होगा। सामूहिक व संघनित प्रयासों से ही भ्रष्टाचार को जड़ से मिटाया जा सकता है। सुशासन पाने के लिए न सिर्फ हमें अनुशासित बनना होगा वरन दूसरों को भी अनुशासन में लाने के लिए प्रयास करने होंगे। युवाओं को वोट के अधिकार को समझना चाहिए तथा इसके द्वारा योग्य जनप्रतिनिधियों का चुनाव करना चाहिए। इस अवसर पर श्री दुबे ने कहा साफ हवा पानी हमारा अधिकार है पर्यावरण एवं वन संरक्षण के क्षेत्र में उनके द्वारा किये गए प्रयासों की भी चर्चा की और सूचना के अधिकार के जरिए कानून में लाए बदलावों के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि वे लंबे समय से बाघों के संरक्षण व उनकी मध्यप्रदेश में उचित बसाहट की दिशा में काम कर रहे हैं। कार्यक्रम के अंत में उन्होंने विद्यार्थियों द्वारा पूछे गए प्रश्नों के उत्तर भी दिये। इस अवसर पर राधारमण ग्रुप आफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर आर सक्सेना ने विद्यार्थियों से कहा कि श्री दुबे को हाल में ही अमेरिकी सरकार ने निमंत्रण देकर लेक्चर हेतू बुलाया था निसंदेह उनका व्यक्तित्व अनुकरणीय है तथा विद्यार्थियों को उनसे अपने लक्ष्य के प्रति डटे रहने की सीख लेना चाहिए। उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम को सतत जारी रखा जाएगा ताकि विद्यार्थी सफल लोगों के जीवन से प्रेरणा ले सकें तथा उनका अनुकरण कर जीवन में सफल हो सकें

  More Detail
Current Event

राधारमण में नए विद्यार्थियों के लिए ओरियेंटेशन कार्यक्रम आयोजित
06-09-2016

राधारमण में नए विद्यार्थियों के लिए ओरियेंटेशन कार्यक्रम आयोजित भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स में नए विद्यार्थियों के लिए ओरियेंटेशन कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम को राधारमण समूह के चेयरमेन आर आर सक्सेना तथा ग्रुप डायरेक्टर प्रोफेसर जे.एल. राणा ने संबोधित किया। डिप्लोमा और इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम के विद्यार्थी व उनके अभिभावक इस कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। श्री सक्सेना ने अपने उद्बोधन में विद्यार्थियों का समूह का हिस्सा बनने पर स्वागत किया तथा उन्हें समूह के इतिहास, उपलब्ध सुविधाएं, गतिविधियां, उपलब्धियां, नियम तथा अनुशासन व भविष्य की योजनाओं के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि वर्ष 2003 में स्थापित राधारमण समूह का उद्देश्य विद्यार्थियों को आईआईटी स्तर की शिक्षा उपलब्ध कराना है, जिसमें समूह काफी हद तक सफल रहा है। इसका उदाहरण नैंसी वर्मा जैसी छात्रा की वैज्ञानिक खोज पर आधारित हायड्रोलिक पावर जनरेशन सिस्टम, मेकेनिकल इंजीनियरिंग विद्यार्थियों बनाई गई हायब्रिड कार तथा बड़ी संख्या में मल्टी नेशनल कंपनियों में उच्च पदों व शानदार पैकेज पर काम कर रहे विद्यार्थी हैं। समूह में पढ़ाई के साथ साथ विद्यार्थियों के संपूर्ण व्यक्तित्व के विकास व उनकी क्षमताओं को पूरी तरह से बाहर निकालने व निखारने का कार्य किया जाता है। यही वजह है कि समूह के विद्यार्थी मध्यभारत के सभी संस्थानों में अपनी विशिष्ट पहचान बनाने में सफल होते हैं। ग्रुप डायरेक्टर प्रोफेसर जे.एल. राणा ने बताया कि समूह को शिक्षा, प्लेसमेंट, प्रशिक्षण, खेलकूद व अन्य क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने के लिए विभिन्न शासकीय व अशासकीय अवार्डों से नवाजा जा चुका है। इनमें मध्यप्रदेश सरकार द्वारा दिये गये बेस्ट इमर्जिंग इन्स्टीट्यूट अवार्ड, बेस्ट इन्स्टीट्यूट फॉर केम्पस प्लेसमेंट अवार्ड, खेल पत्रिका स्पोर्ट्स टाइम्स द्वारा दिया गया बेस्ट स्पोर्ट्स इन्फ्रास्टक्चर अवार्ड, टीसीएस कंपनी द्वारा दिया गया बेस्ट इन्फ्रास्टक्चर अवार्ड प्रमुख हैं।

  More Detail
Current Event

राधारमण में आए जापानी सोलर पॉवर एक्सपर्ट
03-09-2016

राधारमण में आए जापानी सोलर पॉवर एक्सपर्ट भोपाल: राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स परिसर में जापान स्थित टोक्यो इन्स्टीट्यूट ऑफ टेक्नालॉजी से आए प्रोफेसर एवं जाने माने सौर ऊर्जा विशेषज्ञ युकाता तमूरा( YUKATA TAMAURA) ने सौर ऊर्जा एवं सीएल-सीएसपी टेक्नालॉजी ऑफ कान्सन्ट्रेटेड सोलर पॉवर विषय पर व्याख्यान दिया। समूह के मेकेनिकल एवं इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विषय के विद्यार्थियों के लिए आयोजित इस व्याख्यान में प्रोफेसर तमूरा ने कहा कि भविष्य की ऊर्जा जरूरतों को सौर ऊर्जा से ही पूरा किया जा सकेगा। ऊर्जा का यह विकल्प न केवल सस्ता है बल्कि इसे जरूरत के हिसाब से आसानी से घटाया-बढ़ाया जा सकता है। व्याख्यान के अंत में विद्यार्थियों ने उनसे अपनी जिज्ञासाओं का समाधान भी प्राप्त किया। इस अवसर पर प्रोफेसर तमूरा (YUKATA TAMAURA) ने राधारमण समूह के विद्यार्थियों के तकनीकी ज्ञान, सीखने की ललक तथा अनुशासन की प्रशंसा करते हुए कहा कि वे इंटरनेट के माध्यम से उनसे जुडे़ रहेंगे तथा समय-समय पर उनके प्रश्नों का जवाब भी देंगे।

  More Detail
Current Event

राधारमण ओपन कैम्पस में 6 विद्यार्थी अल्ट्रॉन फार्मा में चयनित
29-08-2016

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स परिसर में देश की अग्रणी दवा निर्माता कंपनी अल्ट्रॉन फार्मा द्वारा आयोजित ओपन कैम्पस में 6 विद्यार्थी चयनित हुए है। कंपनी द्वारा समूह परिसर में बी फार्मा 2016 बैच के विद्यार्थियों के लिए यह कैम्पस आयोजित किया गया था जिसमें विभिन्न महाविद्यालयों के विद्यार्थियों ने बड़ी संख्या में भाग ििलया था। कंपनी से आए अधिकारियों ने एक प्रजेंटैशन के जरिए विद्यार्थियों को कंपनी व उसके द्वारा बनाए जा रहे उत्पादों व मार्केटिंग सहित विभिन्न पहलुओं की जानकारी दी गई। इसके उपरांत अधिकारियों ने विद्यार्थियों के ज्ञान व कौशल की परीक्षा ली जिसे सफलतापूर्वक पूरा करने वाले 6 विद्यार्थियों को अंतिम रूप से नियुक्ति हेतु चुना गया। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर आर सक्सेना ने सभी चयनित विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य की कामना की है। उन्होंने कहा कि उनका समूह अपने विद्यार्थियों के साथ साथ प्रदेश के अन्य महाविद्यालयों में अध्ययनरत विद्यार्थियों के प्लेसमेंट के प्रति भी चिंतित रहता है तथा विभिन्न ओपन कैम्पसों के जरिए अब तक हजारों विद्यार्थियों को नेशनल व मल्टीनेशनल कंपनियों में अच्छे पैकेज पर रोजगार दिला चुका है।

  More Detail
Current Event

राधारमण ओपन कैम्पस में 32 विद्यार्थी टेनेको में चयनित
22-08-2016

भोपाल, 22 अगस्त 2016। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स में मल्टीनेशनल ऑटोमोबाइल ओरिजिनल इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरिंग कंपनी टेनेको की भारतीय इकाई टेनेको इंडिया प्रायवेट लिमिटेड द्वारा आयोजित ओपन कैम्पस में 32 विद्यार्थी चुने गए हैं। मेकेनिकल ब्रांच के डिप्लोमा विद्यार्थियों के लिए आयोजित इस कैम्पस में कंपनी से आए अधिकारियों ने ग्रुप डिस्कशन एवं पर्सनल इंटरव्यू के जरिए अपने लिए योग्य उम्मीदवारों का चयन किया। इस प्रक्रिया में विभिन्न महाविद्यालयों के 150 से अधिक विद्यार्थी सम्मिलित हुए जिसमें से 32 विद्यार्थियों को अंतिम रूप से चुना गया। उल्लेखनीय है कि टेनेको अशोक लीलेंड, भारत बेंज, फोर्ड, जनरल मोटर्स, लोम्बारगिनी, महिन्द्रा एण्ड महिन्द्रा व टोयोटा सहित अनेक अग्रणी कंपनियों को अपने उत्पाद सप्लाई करती है। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना ने सभी सफल विद्यार्थियों को शुभकामनाएं देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है। राधारमण समूह न केवल अपने विद्यार्थियों बल्कि प्रदेश के अन्य महाविद्यालयों के विद्यार्थियों को रोजगार दिलाने हेतु समय-समय पर ऐसे ओपन कैम्पसों का आयोजन करता रहता है जिनके जरिए हजारों विद्यार्थी दिग्गज कंपनियों में अच्छे पैकेजों पर नौकरियां पा चुके हैं

  More Detail
Current Event

राधारमण फैकल्टी ने अंतरराष्ट्रीय सेमीनार में शोध पत्र प्रस्तुत किए
17-08-2016

राधारमण फैकल्टी ने अंतरराष्ट्रीय सेमीनार में शोध पत्र प्रस्तुत किए भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स में कार्यरत असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. पूजा सक्सेना के दो शोधपत्रों को हाल ही में उज्जैन में आयोजित इंटरनेशनल वर्चुअल कांग्रेस 2016 में शामिल किया गया। एन एप्रोच टू सोवनिर रियलिटीज ऑफ पार्टिशन बाय चमन नहाल्स आजादी तथा एन ओवरव्यू ऑन द सेन्सिटिव कंडीशन रिफ्लेक्ट्स लव, सेक्रिफाइज एण्ड हेट इन द फिक्शन्स - ट्रेन टू पाकिस्तान एण्ड आजादी नामक इन शोधपत्रों में डॉ. पूजा ने देश की आजादी व विभाजन के दौर की परिस्थितियों पर अपने गहन शोध को प्रस्तुत किया है। इनमें लोगों की मानसिक पीड़ा, जीवन के लिए संघर्ष, अपनों को खोने का दुख, यातनाएं तथा भूख-प्यास व अनिश्चितता को तथ्यों व शब्दों में संजोकर प्रस्तुत किया गया है। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर. आर. सक्सेना ने डॉ. पूजा सक्सेना को उनकी इस उपलब्धि की प्रशंसा करते हुए कहा है कि समूह में कार्यरत फैकल्टी मेम्बर्स बीते वर्षों में अनेक राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा व ज्ञान का लोहा मनवा चुके हैं। यह उन्हीं की मेहनत का प्रतिफल है कि समूह के विद्यार्थी भी उनका अनुकरण करते हुए लगातार अपना व समूह का नाम रोशन कर रहे हैं।

  More Detail
Current Event

राधारमण में पर्सनैलिटी व स्किल डेवलपमेंट वर्कशाप संपन्न
13-08-2016

राधारमण में पर्सनैलिटी व स्किल डेवलपमेंट वर्कशाप संपन्न भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स में आज तीन दिवसीय पर्सनैलिटी एवं स्किल डेवलपमेंट वर्कशाप संपन्न हुई। बीई एवं पॉलिटेक्निक विद्यार्थियों के लिए आयोजित इस वर्कशाप में डॉ. पी.के. लाहिरी, प्रोफेसर जे.एस. ठाकुर, प्रोफेसर आमिर खान, प्रोफेसर एस.डी. सिंह, प्रोफेसर पंकज राव तथा डॉ. आर.के. पाण्डे सहित विभिन्न विशेषज्ञों ने विद्यार्थियों को व्यक्तित्व विकास से जुड़े महत्वपूर्ण विषयों के बारे में जानकारी दी। कार्यक्रम में पधारे विशिष्ट अतिथि डॉ. संदीप जैन, मुख्य सलाहकार आईबीएम ने भी विद्यार्थियों को अपनी प्रतिमा उभारने एवं आत्म विश्वास को बनाये रखने के लिए प्रयासरत रहने को कहा। आज के परिपेक्ष में एंटरप्रेन्योरशिप और स्टार्टअप में रूझान दिखाने पर भी उन्होंने बल दिया। राधारमण समूह के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना छात्रों प्रमाण पत्र देकर विद्यार्थियों से कहा कि किसी भी व्यक्ति का व्यक्तित्व उसके दिखने, उसकी विशेषताओं, दृष्टिकोण, मानसिकता तथा उसका दूसरों के प्रति व्यवहार से मिलकर बनता है। व्यक्तिगत एवं कामकाजी जीवन में सफलता पाने के लिए एक अच्छे व्यक्तित्व की बहुत जरूरत होती है इसलिए हमें सदैव अपने व्यक्तित्व व खूबियों को निखारते रहना चाहिए।

  More Detail
Current Event

राधारमण समूह ने किया नैंसी वर्मा के पिता का सम्मान
06-08-2016

भोपाल। राधारमण समूह के राधारमण इन्स्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एण्ड टेक्नालॉजी से बीई की पढ़ाई के दौरान अपनी हायड्रोलिक पावर जनरेशन के क्षेत्र में नई खोज के जरिए पूरे देश के तकनीकी जगत एवं मीडिया में जगह बनाने वाली छात्रा नैंसी वर्मा के पिता आर के वर्मा का आज राधारमण समूह में अभिनंदन किया गया। पेशे से लखनऊ में सरकारी सिविल इंजीनियर श्री वर्मा ने इस अवसर पर राधारमण समूह का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उनकी बेटी नैंसीशुरू से ही राधा रमण ग्रुप में एडमिशन लेने के लिए जिद्द पकड़ी हुई थी उसके के पास वर्ष 2011 में शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश के अवसर उपलब्ध थे किंतु उसे जिस तरह के फैकल्टी मेम्बर्स व सुविधाओं की जरूरत थी वह उसे उसके शहर लखनऊ से 700 किलोमीटर दूर भोपाल के राधारमण समूह में ही मिल सकती थी उसने ग्रुप के बारे में पूरा रिसर्च कर रखा था अतः मैंने भी उसको भोपाल जाने की इजाजत दे दी और उसने यहां से मैकेनिकल इंजीनियरिंग विषय से अपनी बीई की पढ़ाई पूरी की। उन्होंने कहा कि पहले तो उन्हें अपनी बिटिया के फैसले पर भरोसा नहीं था लेकिन अब जब वह देश-दुनिया में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रही है तो वे उसके निर्णय से मेरा परिवार बहुत खुश हैं। उन्होंने कहा कि राधारमण समूह निसंदेह एक आईआईटी या एनआईआईटी जैसे संस्थान जैसी खूबियां रखता है और यहां से निकलने वाले बच्चों की प्रतिभा को एक अलग पहचान मिलती है। कौन है नैंसी वर्मा और उसने क्या किया था ? उसके द्वारा किया गया आविष्कार की जानकारी नीचे दी गई है राधारमण की छात्रा ने बनाया क्रांतिकारी और सस्ता हायड्रो पावर प्लांट भोपाल। राधारमण इन्स्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एण्ड टेक्नालॉजी (आरआईआरटी) में मेकेनिकल इंजीनियरिंग फाइनल ईयर की छात्रा नैन्सी वर्मा ने अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के पहले ही एक ऐसा हायड्रो पावर प्लांट कान्सेप्ट तैयार किया है जिसे भारत सरकार ने पेटेंट के लिए स्वीकार कर लिया गया है। नैन्सी का दावा है कि उनका डिजाइन बिजली बनाने में आने वाली बहुत सी मुश्किलों को आसान कर देगा। इसके इस्तेमाल से लागत में भारी कमी तो आएगी ही साथ ही इसे कम जगह में लगाया जा सकेगा इससे बिजली उत्पादन के लिए बनाए जाने वाले बड़े बांधों के चलते लोगों व चीजों को विस्थापित करने की जरूरत भी नहीं पड़ेगी। लखनऊ से वर्ष 2011 में भोपाल आकर राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स में प्रवेश लेने वाली नैन्सी ने अपनी पढ़ाई के दूसरे वर्ष अर्थात 2014 में अपने इस कान्सेप्ट पर काम करना शुरू किया व पेटेंट के लिए एप्लाई भी किया। इसके एक वर्ष बाद उन्हें पेटेंट का रेफरेंस नंबर अलाट हो गया तथा उन्हें अब फाइनल पेटेंट मिलने का इंतजार है। उन्होंने चैन्नई से पेटेंट के लिए एप्लाई किया है। 23 वर्षीय इस छात्रा का कहना है कि उन्होंने अपनी थ्योरी में छह मीटर आकार के एक जैसे चार रिजरवायर टैंक का इस्तेमाल किया है। प्रथम टैंक के ऊपरी हिस्से में एक रेम लगाई गई है जो बाहरी प्रेशर पैदा करती है। इस टैंक से जुड़े पेनस्टॉक से पानी बाहर निकलता है और टरबाइन पर जाकर गिरता है जिससे टरबाइन घूमने लगता है और बिजली पैदा होने लगती है। टरबाइन को टैंक से दो मीटर की ऊंचाई पर लगाया गया है। नैन्सी आगे बताती हैं कि टरबाइन से टकराने के बाद पानी एक अन्य पेनस्टॉक से होकर दूसरे टैंक में चला जाता है। और फिर पहले टैंक वाली प्रक्रिया दूसरे टैंक में आरंभ हो जाती है। दूसरे टैंक का पानी टरबाइन को घुमाने के बाद तीसरे टैंक में चला जाता है ओर यहां पुन: वही प्रक्रिया दोहराई जाती है जिसके बाद पानी चौथे टैंक में चला जाता है। चौथे टैंक में आने के बाद पानी पुन: पहले टैंक में चला जाता है और यह प्रक्रिया सतत चलती रहती है और बिजली उत्पन्न होती रहती है। इस तरीके से एक बांध से बनने वाली प्रति यूनिट बिजली जितनी ऊर्जा पैदा की जा सकती है। मौजूदा बांधों में टरबाइन रिजरवायर के निचले स्तर पर होता है जहां पेनस्टॉक से होकर पानी टरबाइन पर गिरता है जिससे बिजली पैदा होती है। नैन्सी ने बाहरी दबाव का इस्तेमाल पानी को टरबाइन तक भेजने में किया है। इस दबाव को जरूरत के मुताबिक कम या ज्यादा किया जा सकता है। बांधों में एक बार टरबाइन पर गिरने के बाद पानी का दोबारा इस्तेमाल नहीं हो पाता जबकि इस कान्सेप्ट में पानी का लगातार पुन: इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे पानी की बचत होती है और ज्यादा पानी रोकने के लिए बांधों की ऊंचाई भी नहीं बढ़ाना पड़ती। नैन्सी कहती हैं कि उन्हें उनकी कान्सेप्ट से बिजली तैयार करने के लिए केवल 1000 वर्गमीटर जमीन की जरूरत है जोकि बड़े बांधों के लिए इस्तेमाल की जाने वाली हजारों एकड़ भूमि की तुलना में कुछ भी नहीं है। साथ ही उनकी कान्सेप्ट में बहुत कम पानी से बिजली उत्पादन किया जा सकता है। अपनी इस सफलता का श्रेय नैन्सी ने अपने कालेज राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना, तथा पिता रमेश कुमार वर्मा तथा माता मीरा वर्मा को दिया है जिन्होंने उन्हें सदैव प्रोत्साहित किया है।

  More Detail
Current Event

राधारमण में तीन दिवसीय पर्सनैलिटी डेवलपमेंट वर्कशॉप का आयोजन
10-08-2016

राधारमण में तीन दिवसीय पर्सनैलिटी डेवलपमेंट वर्कशॉप का आयोजन भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स परिसर मंे तीन दिवसीय पर्सनैलिटी डेवलपमेंट वर्कशॉप का आयोजन किया जा रहा है। समूह के राधारमण इंजीनियरिंग कॉलेज में चल रहे इस कार्यक्रम को द इन्स्टीट्यूशन ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एण्ड टेलीकम्युनिकेशन इंजीनियरिंग (आईईटीई) फोरम द्वारा आयोजित किया जा रहा है। इस वर्कशॉप में डॉ. आर.के. पाण्डे, डॉ. पी.के. लाहिरी, प्रोफेसर रोमी पॉल तथा सूर्यदेव सिंह ने पॉलीटेक्निक एवं बीई के छात्रों को व्यक्तित्व एवं कौशल विकास के गुर सिखाये। इस अवसर पर समूह के ग्रुप डायरेक्टर प्रोफेसर जे.एल. राणा ने कहा कि इस वर्कशॉप का उद्देश्य जहां शैक्षिक रूप से कमजोर विद्यार्थियों को मॉडर्न कॉरपोरेट जगत की कार्यशैली से अवगत कराना तथा उन्हें भविष्य के लिए तैयार करना है तो वहीं पहले से होशियार विद्यार्थियों की कम्युनिकेशन स्किल व बॉडी लैंग्वेज की धार को और तेज बनाना है। काबिलियत ही कामयाबी का रास्ता मध्यप्रदेश कंसलटेंसी ऑर्गनाइजेशन के पूर्व प्रबंध निदेशक डॉ. पी.के. लाहिरी ने अपने 40 वर्ष से अधिक लंबे अनुभव साझा करते हुए विद्यार्थियों को कामयाबी हासिल करने के टिप्स प्रदान किए। उन्होंने कहा कि काबिलियत ही कामयाबी का रास्ता है। आप अपने स्किल्स को जितना निखारेंगे उतना ही सफल आप बनेंगे। समय प्रबंधन सफलता का महत्वपूर्ण हिस्सा डॉ. आर.के. पाण्डे ने बताया कि समय प्रबंधन सफलता पाने का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। जिस तरह पढ़ाई के वर्षों में समय का सही प्रबंधन करने वाले विद्यार्थी परीक्षा में अव्वल आते हैं ठीक उसी तरह करियर निर्माण के दौर में आप किस तरह अपने उपलब्ध समय का बेहतर व प्रभावी इस्तेमाल करते हैं इस पर आपका भविष्य निर्भर करता है। कॉरपोरेट जगत में जगह बनाने जरूरी है अंग्रेजी का ज्ञान प्रोफेसर सेमी पॉल ने विद्यार्थियों को अंग्रेजी भाषा के प्रयोग, उच्चारण एवं शब्दों का चयन व धाराप्रवाह आदि के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि अंग्रेजी कॉरपोरेट जगत का अनिवार्य अंग है जिसे जानना व समझना आवश्यक है।

  More Detail
Current Event

राधारमण ओपन कैम्पस मे 6 विद्यार्थी एप्रिकॉट सॉफ्ट लैब्स में चयनित
04-08-2016

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स में विश्व की अग्रणी सॉफ्टवेयर निर्माता व डिजीटल कंटेंट डेवलपमेंट कंपनी एप्रिकॉट सॉफ्ट लैब्स द्वारा आयोजित ओपन कैम्पस में 6 विद्यार्थियों का चयन हुआ है। बीई-सीएस व आईटी तथा एमबीए के 2016 बैच के विद्यार्थियों के लिए आयोजित इस कैम्पस में कंपनी से आए अधिकारियों ने लिखित परीक्षा, ग्रुप डिस्कशन तथा पर्सनल इंटरव्यू द्वारा योग्यता की परीक्षा ली। इस परीक्षा को सफलतापूर्वक पार करने वाले 6 विद्यार्थियों को अंतिम रूप से चुना गया। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर आर सक्सेना ने सभी चयनित विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य की कामना की है। उन्होंने कहा कि समूह में अपनी पढ़ाई के अंतिम वर्ष में सभी विद्यार्थियों को देश-विदेश की कंपनियों में 4.5 से लेकर 24 लाख तक के पैकेज पर नौकरियां मिल चुकी हैं। शानदार परीक्षा परिणामों व प्लेसमेंट सेल द्वारा विद्यार्थियों में विकसित किये जा रहे स्किल्स के चलते आज राधारमण समूह देश-विदेश की कंपनियों के लिए फेवरिट कैम्पस डेस्टीनेशन बन गया है।

  More Detail
Current Event

राधारमण ओपन कैम्पस में 2 विद्यार्थी एपिक रिसर्च में चयनित
25-07-2016

राधारमण ओपन कैम्पस में 2 विद्यार्थी एपिक रिसर्च में चयनित भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स परिसर में देश की अग्रणी शेयर बाजार व निवेश कंपनी एपिक रिसर्च द्वारा आयोजित ओपन कैम्पस में 2 विद्यार्थियों का चयन हुआ है। इस कैम्पस में एमबीए तथा बीई की सभी ब्रांचों के विद्यार्थियों ने भाग लिया था। इस चयन हेतु कंपनी की ओर से आए अधिकारियों ने लिखित परीक्षा, ग्रुप डिस्कशन तथा पर्सनल इंटरव्यू के जरिए विद्यार्थियों की योग्यता व दक्षता का आंकलन किया। प्रक्रिया को सफलतापूर्वक पूरा करने वाले 2 विद्यार्थियों को अंतिम रूप से चयनित किया गया। उल्लेखनीय है कि इस शैक्षिक सत्र में 50 से अधिक कंपनियां राधारमण परिसर में कैम्पस हेतु आ चुकी हैं जिनके जरिए 4894 विद्यार्थियों को अधिकतम 24 लाख रूपए सालाना तक के पैकेज पर देश विदेश की जानी मानी कंपनियों में शानदार पैकेज पर नियुक्तियां मिल चुकी हैं। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर आर सक्सेना ने सभी चयनित विद्यार्थियों को उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामना दी है।

  More Detail
PREV 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 NEXT