Media & Advet.

Media & Advet. / Current Events

Current Events

  • Vihan

  • Current Events

    IT Security and Network Seminar
  • Current Events

    Vihan Singing Competition
  • Current Events

    Vihan Guli Cricket
  • Current Events

    Vihan Dance Competition

 

Current Event

राधारमण के विहान में तान्या और अरण्या के डांस ने बांधा समां
03-03-2016

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स की रातीबड़ स्थित परिसर में चल रहे राज्यस्तरीय वार्षिकोत्सव विहान 2016 में आज सोलो व ग्रुप डांस की धूम रही। आस्ट्रेलिया की क्वीन्सलैण्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ रही छात्रा तान्या सक्सेना द्वारा भरतनाट्यम के जरिए प्रस्तुत पगावल स्तुति को दर्शकों की जमकर तालियां मिलीं। तान्या ने विभिन्न मुद्राओं व भावभंगिमाओं के जरिए मनोहारी डांस पेश किया। उनकी इस स्तुति में माँ दुर्गा व भगवान कृष्ण के रूप देखने को मिले। उन्हें इस प्रस्तुति के लिए विशेष पुरस्कार प्रदान किया गया। उल्लेखनीय है कि तान्या अपनी यूनिवर्सिटी में एक बैण्ड का भी नेतृत्व करती हैं व एक अच्छी ड्रमर हैं तथा यूनिवर्सिटी की ओर से कई शो में भाग ले चुकी हैं। वहीं बिलाबोंग स्कूल की कक्षा 4 में पढ़ रही नन्ही नृत्यांगना अरण्या ने भी एक मंजी हुई नृत्यांगना की तरह अपनी प्रस्तुति देकर खूब सराहना बंटोरी। दिन भर चले इस कार्यक्रम में प्रतिभागियों ने क्लासिकल, कन्टेम्पररी व वेस्टर्न फार्म के अनेक डांस प्रस्तुत किए। सोलो डांस में सोनिया जेम्स ने राष्ट्रीयता व देशभक्ति से ओतप्रोत सलाम इंडिया थीम पर अपनी प्रस्तुति दी तो वहीं अभिजीत मिश्रा ने कन्टेम्पररी फार्म में अपना नृत्य प्रस्तुत किया। ग्रुप डांस के अंतर्गत सीएमबी ग्रुप ने वेस्टर्न डांस प्रस्तुत किया तथा ब्लाइंडर गन्स ने भी इसी फार्म पर अपनी प्रतिभा दिखाई। कार्यक्रम के अंत में समूह के ग्रुप डायरेक्टर प्रोफेसर जे.एल. राणा ने सभी प्रतिभागियों के प्रदश्र्रन की सराहना करते हुए कहा कि सांस्कृतिक गतिविधियां विद्यार्थियों में छिपी प्रतिभा को बाहर निकालने का काम करती हैं। साथ ही इन गतिविधियों के जरिए वे न सिर्फ नई ऊर्जा प्राप्त कर सकते हैं बल्कि अपने व्यक्तित्व को निखारने का काम भी बखूबी कर सकते हैं। कल समाप्त हो रहे इस वार्षिकोत्सव के समापन कार्यक्रम की अध्यक्षता करने जाने-माने गायक, भोजपुरी व हिन्दी फिल्म अभिनेता तथा सांसद मनोज तिवारी आ रहे हैं। इस अवसर पर वे पुरस्कार वितरण के साथ साथ अपने चुनिंदा गानों की प्रस्तुति भी देंगे।

  More Detail
Current Event

राधारमण के विहान में तान्या और अरण्या के डांस ने बांधा समां
03-03-2016

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स की रातीबड़ स्थित परिसर में चल रहे राज्यस्तरीय वार्षिकोत्सव विहान 2016 में आज सोलो व ग्रुप डांस की धूम रही। आस्ट्रेलिया की क्वीन्सलैण्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ रही छात्रा तान्या सक्सेना द्वारा भरतनाट्यम के जरिए प्रस्तुत पगावल स्तुति को दर्शकों की जमकर तालियां मिलीं। तान्या ने विभिन्न मुद्राओं व भावभंगिमाओं के जरिए मनोहारी डांस पेश किया। उनकी इस स्तुति में माँ दुर्गा व भगवान कृष्ण के रूप देखने को मिले। उन्हें इस प्रस्तुति के लिए विशेष पुरस्कार प्रदान किया गया। उल्लेखनीय है कि तान्या अपनी यूनिवर्सिटी में एक बैण्ड का भी नेतृत्व करती हैं व एक अच्छी ड्रमर हैं तथा यूनिवर्सिटी की ओर से कई शो में भाग ले चुकी हैं। वहीं बिलाबोंग स्कूल की कक्षा 4 में पढ़ रही नन्ही नृत्यांगना अरण्या ने भी एक मंजी हुई नृत्यांगना की तरह अपनी प्रस्तुति देकर खूब सराहना बंटोरी। दिन भर चले इस कार्यक्रम में प्रतिभागियों ने क्लासिकल, कन्टेम्पररी व वेस्टर्न फार्म के अनेक डांस प्रस्तुत किए। सोलो डांस में सोनिया जेम्स ने राष्ट्रीयता व देशभक्ति से ओतप्रोत सलाम इंडिया थीम पर अपनी प्रस्तुति दी तो वहीं अभिजीत मिश्रा ने कन्टेम्पररी फार्म में अपना नृत्य प्रस्तुत किया। ग्रुप डांस के अंतर्गत सीएमबी ग्रुप ने वेस्टर्न डांस प्रस्तुत किया तथा ब्लाइंडर गन्स ने भी इसी फार्म पर अपनी प्रतिभा दिखाई। कार्यक्रम के अंत में समूह के ग्रुप डायरेक्टर प्रोफेसर जे.एल. राणा ने सभी प्रतिभागियों के प्रदश्र्रन की सराहना करते हुए कहा कि सांस्कृतिक गतिविधियां विद्यार्थियों में छिपी प्रतिभा को बाहर निकालने का काम करती हैं। साथ ही इन गतिविधियों के जरिए वे न सिर्फ नई ऊर्जा प्राप्त कर सकते हैं बल्कि अपने व्यक्तित्व को निखारने का काम भी बखूबी कर सकते हैं। कल समाप्त हो रहे इस वार्षिकोत्सव के समापन कार्यक्रम की अध्यक्षता करने जाने-माने गायक, भोजपुरी व हिन्दी फिल्म अभिनेता तथा सांसद मनोज तिवारी आ रहे हैं। इस अवसर पर वे पुरस्कार वितरण के साथ साथ अपने चुनिंदा गानों की प्रस्तुति भी देंगे।

  More Detail
Current Event

राधारमण एनुअल मीट विहान 2016 में फैशन शो का जलवा
02-03-2016

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स की राज्यस्तरीय एनुअल मीट विहान 2016 का आज समूह परिसर में झिलमिलाती रंगीन लाइटों से नहाए रैम्प पर मॉडल्स की तरह सजकर आए प्रतिभागियों ने रैम्प वॉक किया। कन्टेम्पररी से लेकर वेस्टर्न आउटफिट्स में तैयार होकर आए इन प्रतिभागियों ने बेकग्राउण्ड म्यूजिक की ताल पर ताल मिलाते हुए एक के बाद एक प्रस्तुति में दर्शकों को शानदार विजुअल ट्रीट दी। प्रतिभागियों की हेयरस्टाइल से लेकर आउटफिट्स से मैच खाती एसेसरीज के काम्बीनेशन ने इस फैशन शो को किसी बड़े व प्रोफेशनल फैशन शो का लुक प्रदान किया। विहान 2016 का दूसरा प्रमुख आकर्षण सोलो व डुएट सिंगिंग काम्पीटिशन रहा। इस कार्यक्रम में हिन्दी फिल्मों के नए व पुराने गीतों को प्रतिभागियों ने अपने-अपने अंदाज में पेश कर दर्शकों की तालियां बटोरीं। मोहम्मद रफी से लेकर सुनीधि चौहान तक विभिन्न प्लेबेक सिंगर्स द्वारा गाए गये सुमधुर गीतों की संगीतमयी यात्रा इस काम्पीटिशन में देखने को मिली। उक्त दोनों प्रतियोगिताओं को जाने माने थियेटर आर्टिस्ट व पीकू फिल्म के कलाकार श्री वालेन्दु, अभिनेता अखिलेश जैन दूरदर्शन की लोकप्रिय एंकर आशा फ्रेड जैसे विशेषज्ञों के निर्णायक मण्डल ने जज किया और श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले प्रतियोगियों के नामों की घोषणा की। सोलो सांग का प्रथम पुरस्कार एलएनसीटी का छात्रा अपूर्वा पाटले को उनके द्वारा गाए गए गीत दीवानी मस्तानी पर मिला। वहीं द्वितीय पुरस्कार दिपेन सुंदरम को मिला। उन्होंने कैसी ये जिंदगानी गीत प्रस्तुत किया। डुएट वर्ग में ललित और दिपेन की जोड़ी प्रथम पुरस्कार विजेता रही जबकि अतुल और प्रणीता की जोड़ी को रनर अप पुरस्कार मिला। समूह के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना ने बताया कि यह 1 मार्च से आरंभ हुई विहान 2016 कल्चरल कल्चरल मीट टेक्नीकल तथा आर्ट विला नामक तीन चरणों में संपन्न होगी। कल्चरल वर्ग में फैशन शो, सोलो सिंगिंग व डांसिंग, मिमिक्री तथा स्किल शामिल हैं जबकि टेक्नीकल वर्ग में क्विज, एक्टेम्पोर, लेन गेमिंग, डीबेट, फोटोग्राफी, पेपर प्रजेंटेशन तथा प्रोग्राम राइटिंग जैसी प्रतियोगिताएं देखने को मिलेंगी।

  More Detail
Current Event

राधारमण एनुअल मीट विहान 2016 का रंगारंग शुभारंभ
01-03-2016

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स की राज्यस्तरीय एनुअल मीट विहान 2016 का आज समूह परिसर में भव्य शुभारंभ हुआ। चार दिनों तक चलने वाले इस आयोजन में प्रदेश के विभिन्न इंजीनियरिंग महाविद्यालयों के विद्यार्थी भाग अपनी.अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगे। मीट का औपचारिक उद्घाटन आज सुबह एमपी काउंसिल ऑफ साइंस एण्ड टेक्नालॉजी के डायरेक्टर जनरल प्रोफेसर पीके वर्मा ने किया। मैनिटए भोपाल के डायरेक्टर डॉण् अप्पू कुट्टन ने इस कार्यक्रम की अध्यक्षता की। समूह के चेयरमेन आरण्आरण् सक्सेना ने अपने स्वागत भाषण में बताया कि यह कल्चरलए टेक्नीकल तथा आर्ट विला नामक तीन चरणों में संपन्न होगी। कल्चरल वर्ग में फैशन शोए सोलो सिंगिंग व डांसिंगए मिमिक्री तथा स्किल शामिल हैं जबकि टेक्नीकल वर्ग में क्विजए एक्टेम्पोरए लेन गेमिंगए डीबेटए फोटोग्राफीए पेपर प्रजेंटेशन तथा प्रोग्राम राइटिंग जैसी प्रतियोगिताएं देखने को मिलेंगी। मीट के पहले दिन आर्ट विला का आयोजन किया गया जिसमें विद्याथियों ने मेहंदीए रांगोलीए पेंटिंगए हेयर स्टाइलए फेस पेंटिंगए आर्ट डेकोरेशनए थाली डेकोरेशनए सलाद डेकोरेशन व नेल आर्ट आदि विधाओं में अपनी महारत का प्रदर्शन किया। मीट के अंतर्गत 2 मार्च को फैशन शो व सांग व डांस प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा।

  More Detail
Current Event

राधारमण विद्यार्थियों का साइंस मॉडल पुरस्कृत
23-02-2016

भोपाल। राधारमण इन्स्टीट्यूट्स ऑफ टेक्नालॉजी एण्ड साइंस के सिविल इंजीनियरिंग ब्रांच के विद्यार्थियों के द्वारा हाल ही में मप्र विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद, भोपाल विज्ञान भारती, भोपाल द्वारा आयोजित इस मेले में संपन्न पांचवे विज्ञान मेले में प्रस्तुत साइंस मॉडल को विशेष पुरस्कार प्राप्त हुआ है। राधारमण विद्यार्थियों के इस मॉडल ने आरजीपीवी, बरकतउल्लाह यूनिवर्सिटी तथा मैनिट, भोपाल जैसे दिग्गज संस्थानों से मुकाबला करते हुए यह पुरस्कार हासिल किया है। उल्लेखनीय है कि इस मेले में प्रदेश के विभिन्न इंजीनियरिंग महाविद्यालयों व विश्वविद्यालयों के विद्यार्थियों ने नई तकनीक पर आधारित अपने-अपने प्रोजेक्ट प्रस्तुत किये थे। विगत 19 से 22 फरवरी तक इस मेले का आयोजन मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्यागिकी परिषद द्वारा किया गया था। महाविद्यालय के सिविल डिपार्टमेंट के प्रमुख पंकेज द्विवेदी के नेतृत्व में इस मेले में विद्यार्थियों ने अपने मॉडल पेश किये थे। महाविद्यालय की डायरेक्टर डॉ. गायत्री अग्निहोत्री ने इस उपलब्धि पर विद्यार्थियों को बधाई दी है।

  More Detail
Current Event

राधारमण में इण्डियन नेवी अवेयरनेस टॉक आयोजित
20-02-2016

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूशंस में विगत दिवस इण्डियन नेवी द्वारा मोटीवेशन व अवेयरनेस टॉक का आयोजन किया गया। इण्डियन नेवी की वेस्टर्न नेवल कमाण्ड से आए कैप्टन जे.के. चौधरी ने इस दौरान विद्यार्थियों को भारतीय नौसेना के इतिहास व इसके विभिन्न अंगों में करियर के अवसरों के बारे में जानकारी प्रदान की। साथ ही उन्होंने विद्यार्थियों को जीवन में लक्ष्य निर्धारण और उस लक्ष्य तक पहुंचने के उपायों से जुड़े रोचक टिप्स भी दिए। समूह के सभी इंजीनियरिंग कॉलेजों की सभी ब्रांचों के विद्यार्थियों ने अटेण्ड किया। यह कार्यक्रम समूह के छठवें सेमेस्टर के विद्यार्थियों के लिए खासकर उपयोगी रहा जिसमें उन्हें यूईएस-17 योजना के जरिए इण्डियन नेवी में प्रवेश की प्रक्रिया के बारे में बताया गया। इस हेतु इस वर्ष जून माह में समाचार पत्रों में विज्ञापन प्रकाशित होगा। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना ने कहा कि इण्डियन नेवी सचमुच ओशियन ऑफ ऑपरचूनिटीज है। यहां पहूंचकर विद्यार्थी न केवल शानदार करियर बना सकते हैं बल्कि काम के साथ साथ देश की सेवा भी कर सकते हैं।

  More Detail
Current Event

राधारमण में मेकेनिकल इंजीनियरिंग में करियर संभावनाओं पर सेमीनार आयोजित
18-02-2016

भोपाल। राधारमण इंजीनियरिंग कॉलेज में विगत दिवस सॉफ्टवेयर उद्योग में मेकेनिकल इंजीनियरिंग विद्यार्थियों के लिए करियर संभावनाएं विषय पर एक दिवसीय सेमीनार का आयोजन किया गया। आईईटीई स्टूडेंट फोरम द्वारा आयोजित इस सेमीनार में आईबीएम कंपनी, बैंगलोर के सीनियर मैनेजिंग कंसलटेंट डॉ. संदीप जैन ने अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम के आरंभ में कॉलेज के डायरेक्टर डॉ. आर.के. पाण्डे ने स्वागत भाषण दिया। डॉ. जैन ने कहा कि मैकेनिकल इंजीनियरिंग ब्रांच इंजीनियरिंग की सबसे पुरानी ब्रांच है जिसमें आज के दौर में बड़ी रोजगार संभावनाएं मौजूद हैं। कन्स्ट्रक्शन, एविएशन से लेकर इण्डस्ट्रियल प्रोडक्शन तक तमाम क्षेत्रों में इसकी मांग लगातार बढ़ रही है। रोचक बात यह है कि अब सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के क्षेत्र में भी मेकेनिकल इंजीनियरों की बहुत मांग है। इसका कारण ज्यादातर डिजाइनों का कैड व कैम जैसे सॉफ्टवेयरों पर निर्माण होना है। इन सॉफ्टवेयरों का सहारा आजकल तकरीबन सभी तरह की उत्पादों के डिजाइन बनाने के लिए किया जाने लगा है। डिजाइनों के लेआउट, परफार्मेंंस एनालिसिस, डिजाइन यूटिलिटी व अन्य जरूरी पहलुओं को जांचने व परखने के लिए कम्प्यूटर सॉफ्टवेयरों का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल होने से अब इन्हें इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों में भी शामिल किया जाने लगा है। इस अवसर पर राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना ने आईबीएम व आईईटीई स्टूडेंट फोरम का धन्यवाद करते हुए कहा कि इस सेमीनार से निसंदेह विद्यार्थियों को मेकेनिकल इंजीनियरिंग और सॉफ्टवेयर डेवलमेंट के बीच की महत्वपूर्ण कड़ी को जानने व समझने का मौका मिला।

  More Detail
Current Event

राधारमण में इण्डस्ट्रियल कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर पर कार्यशाला संपन्न
15-02-2016

भोपाल। राधारमण इन्स्टीट्यूट्स ऑफ टेक्नालॉजी एण्ड साइंस (आरआईटीएस) में विगत दिवस बड़े और जटिल कार्यों व मशीनों के संचालन के लिए प्रयुक्त होने वाले इण्डस्ट्रियल कम्प्यूटरों में प्रयुक्त होने वाले प्रोग्रामेबल लॉजिक कन्ट्रोलर (पीएलसी) तथा सुपरवाइज्ड कन्ट्रोल एण्ड डाटा एक्विजिशन (स्केडा) विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। इलेक्ट्रिकल एवं इलेक्ट्रॉनिक्स विषय के विद्यार्थियों के लिए आयोजित इस कार्यशाला को सॉफ्कान इण्डिया प्रायवेट लिमिटेड कंपनी से आए विषय विशेषज्ञों - कुलदीप मिश्रा व रुचि सिंघल - ने संबोधित किया। इन विशेषज्ञों ने बताया कि पीएलसी एक विशेष तरह का कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर होता है जिसका काम मशीनी प्रक्रियाओं को नियंत्रित करने तथा लॉजिक व मैथ्स से जुड़े प्रोग्रामों को चलाने के लिए किया जाता है। वहीं स्केडा एक मानवीय प्रोग्राम है जो किसी कारखाने की प्रक्रिया व उसके नियंत्रण के बारे में जानकारी देता है। उन्होंने कहा कि बड़े पैमाने पर हो रहे मशीनीकरण के चलते इन दोनों के बिना किसी कारखाने में मशीनी कामकाज के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता। इस क्षेत्र में करियर की बड़ी संभावनाएं मौजूद हैं। कार्यक्रम के आरंभ में सीनियर डायरेक्टर डॉ. गायत्री अग्निहोत्री ने इस कार्यशाला का औपचारिक उद्घाटन किया। समूह के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना ने इस कार्यशाला को उपयोगी बताते हुए विद्यार्थियों से कहा कि वे संभावनाओं से भरे इस क्षेत्र में अपना करियर बनाने के बारे में सोच सकते हैं।

  More Detail
Current Event

राधारमण विद्यार्थियों ने किया निर्माणाधीन नए सचिवालय का भ्रमण
11-02-2016

भोपाल। राधारमण इन्स्टीट्यूट ऑफ टेक्नालॉजी एण्ड साइंस (आरआईटीएस)तथा राधारमण इन्स्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एण्ड टैक्नोलॉजी के सिविल इंजीनियरिंग विषय के विद्यार्थियों ने विगत दिवस मौजूदा सचिवालय वल्लभ भवन के निकट ही बन रहे राज्य के नए सचिवालय की निर्माणाधीन इमारत का शैक्षिक भ्रमण किया। इस भ्रमण के दौरान विद्यार्थियों ने इस प्रोजेक्ट के सब इंजीनियर एल.एस. मौर्य से इस बहुमंजिला इमारत के निर्माण से जुड़े तकनीकी पहलुओं के बारे में जानकारी प्राप्त की। श्री मौर्य ने उन्हें क्वालिटी कंट्रोल सहित बिल्ंिडग के बहुत से तकनीकी एलीमेंट्स के बारे में विस्तार से बताया। साथ ही उन्होंने विद्यार्थियों द्वारा पूछे गए विभिन्न प्रश्नों के उत्तर भी दिए। कालेज की ओर से विद्यार्थियों के इस दल का नेतृत्व सिविल इंजीनियरिंग विभाग के प्रमुख पंकज द्विवेदी तथा आरआईआर टी के एचओडी केजी किरार ने किया। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना ने कहा कि नए सचिवालय की इमारत प्रदेश का एक प्रतिष्ठित निर्माण है जिसे विश्वस्तरीय तकनीक व गुणवत्ता को ध्यान में रखकर बनाया जा रहा है। ऐसे निर्माणस्थल पर समूह के विद्यार्थियों का जाना व निर्माण की बारीकियों को समझना उनके ज्ञान को समृद्ध बनाएगा जिसका लाभ उन्हें आने वाले दिनों में बतौर इंजीनियर मिलेगा।

  More Detail
Current Event

राधारमण की छात्रा ने बनाया क्रांतिकारी और सस्ता हायड्रो पावर प्लांट
08-02-2016

भोपाल। राधारमण इन्स्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एण्ड टेक्नालॉजी (आरआईआरटी) में मेकेनिकल इंजीनियरिंग फाइनल ईयर की छात्रा नैन्सी वर्मा ने अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के पहले ही एक ऐसा हायड्रो पावर प्लांट कान्सेप्ट तैयार किया है जिसे भारत सरकार ने पेटेंट के लिए स्वीकार कर लिया गया है। नैन्सी का दावा है कि उनका डिजाइन बिजली बनाने में आने वाली बहुत सी मुश्किलों को आसान कर देगा। इसके इस्तेमाल से लागत में भारी कमी तो आएगी ही साथ ही इसे कम जगह में लगाया जा सकेगा इससे बिजली उत्पादन के लिए बनाए जाने वाले बड़े बांधों के चलते लोगों व चीजों को विस्थापित करने की जरूरत भी नहीं पड़ेगी। लखनऊ से वर्ष 2012 में भोपाल आकर राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स में प्रवेश लेने वाली नैन्सी ने अपनी पढ़ाई के दूसरे वर्ष अर्थात 2014 में अपने इस कान्सेप्ट पर काम करना शुरू किया व पेटेंट के लिए एप्लाई भी किया। इसके एक वर्ष बाद उन्हें पेटेंट का रेफरेंस नंबर अलाट हो गया तथा उन्हें अब फाइनल पेटेंट मिलने का इंतजार है। उन्होंने चैन्नई से पेटेंट के लिए एप्लाई किया है। 23 वर्षीय इस छात्रा का कहना है कि उन्होंने अपनी थ्योरी में छह मीटर आकार के एक जैसे चार रिजरवायर टैंक का इस्तेमाल किया है। प्रथम टैंक के ऊपरी हिस्से में एक रेम लगाई गई है जो बाहरी प्रेशर पैदा करती है। इस टैंक से जुड़े पेनस्टॉक से पानी बाहर निकलता है और टरबाइन पर जाकर गिरता है जिससे टरबाइन घूमने लगता है और बिजली पैदा होने लगती है। टरबाइन को टैंक से दो मीटर की ऊंचाई पर लगाया गया है। नैन्सी आगे बताती हैं कि टरबाइन से टकराने के बाद पानी एक अन्य पेनस्टॉक से होकर दूसरे टैंक में चला जाता है। और फिर पहले टैंक वाली प्रक्रिया दूसरे टैंक में आरंभ हो जाती है। दूसरे टैंक का पानी टरबाइन को घुमाने के बाद तीसरे टैंक में चला जाता है ओर यहां पुन: वही प्रक्रिया दोहराई जाती है जिसके बाद पानी चौथे टैंक में चला जाता है। चौथे टैंक में आने के बाद पानी पुन: पहले टैंक में चला जाता है और यह प्रक्रिया सतत चलती रहती है और बिजली उत्पन्न होती रहती है। इस तरीके से एक बांध से बनने वाली प्रति यूनिट बिजली जितनी ऊर्जा पैदा की जा सकती है। मौजूदा बांधों में टरबाइन रिजरवायर के निचले स्तर पर होता है जहां पेनस्टॉक से होकर पानी टरबाइन पर गिरता है जिससे बिजली पैदा होती है। नैन्सी ने बाहरी दबाव का इस्तेमाल पानी को टरबाइन तक भेजने में किया है। इस दबाव को जरूरत के मुताबिक कम या ज्यादा किया जा सकता है। बांधों में एक बार टरबाइन पर गिरने के बाद पानी का दोबारा इस्तेमाल नहीं हो पाता जबकि इस कान्सेप्ट में पानी का लगातार पुन: इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे पानी की बचत होती है और ज्यादा पानी रोकने के लिए बांधों की ऊंचाई भी नहीं बढ़ाना पड़ती। नैन्सी कहती हैं कि उन्हें उनकी कान्सेप्ट से बिजली तैयार करने के लिए केवल 1000 वर्गमीटर जमीन की जरूरत है जोकि बड़े बांधों के लिए इस्तेमाल की जाने वाली हजारों एकड़ भूमि की तुलना में कुछ भी नहीं है। साथ ही उनकी कान्सेप्ट में बहुत कम पानी से बिजली उत्पादन किया जा सकता है। अपनी इस सफलता का श्रेय नैन्सी ने अपने कालेज राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना, तथा पिता रमेश कुमार वर्मा तथा माता मीरा वर्मा को दिया है जिन्होंने उन्हें सदैव प्रोत्साहित किया है।

  More Detail
Current Event

राधारमण विद्यार्थियों ने सीखा फज्जी एप्लीकेशन बनाना
03-02-2016

भोपाल। फज्जी लॉजिक कम्प्यूटिंग समस्याओं में अस्पष्ट मानवीय आकलन को शामिल कर प्रभावी व बेहतर विकल्प उपलब्ध कराता है। इलेक्ट्रिकल, मैकेनिकल, सिविल इंजीनियरिंग के साथ साथ इसका एयरोस्पेस, कृषि, जैविक चिकित्सा आदि अनेक क्षेत्र में बड़ा उपयोग हो रहा है। यह बात राधारमण इंजीनियरिंग कॉलेज में आयोजित फज्जी एप्लीकेशन विषय पर आयोजित एक सेमीनार के दौरान सिविल इंजीनियरिंग विभाग के प्रमुख डॉ. अजय प्रताप सिंह ने कही। उन्होंने बताया कि सिविल इंजीनियरिंग के विद्यार्थी इसका प्रयोग ट्राफिक इंजीनियरिंग, ट्राफिक फ्लो थ्योरी, मेंटेनेंस एवं मैनेजमेंट ऑफ रोड्स तथा ट्रांसपोर्टेशन प्लानिंग आदि क्षेत्रों में बखूबी कर सकते हैं। समूह के सिविल इंजीनियरिंग विषय के लिए आयोजित इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में विद्यार्थियों ने भाग लिया। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीटयूट्स के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना ने कहा कि समय-समय पर विशेष रूप से आयोजित होने वाले इन शैक्षिक कार्यक्रमों से विद्यार्थियों को प्रेक्टिकल नॉलेज पाने का अवसर प्राप्त होता है।

  More Detail
Current Event

राधारमण छात्रों ने की इण्डियन रेलवे की टेक्नीकल विजिट
30-01-2016

भोपाल। राधारमण इन्स्टीट्यूट ऑफ टेक्नालॉजी एण्ड साइंस तथा राधारमण इन्स्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एण्ड टैक्नोलॉजी के बीई सिविल इंजीनियरिंग विद्यार्थियों के एक दल ने हाल ही में भारतीय रेलवे के अंतर्गत हवीबगंज रेलवे स्टेशन ट्रेफिक विभाग का दौरा किया। इस दौरान उन्हें हवीबगंज रेलवे स्टेशन के सीनियर डीएसटीई गौरव सिंह एवं एसएसई सुयोग पुलब्रिकर एवं स्टेशन मेंटेनेंस अधिकारी अजय देशमुख के मार्गदर्शन में रेलगाडिय़ों के सुचारू आवागमन के लिए सिगनलिंग, इंटरलॉकिंग व अन्य ट्रेफिक नियंत्रण व्यवस्थाओं की जानकारी प्रदान की गई। साथ ही विद्यार्थियों को बीते वर्षों में इस क्षेत्र में हुए तकनीकी विकास व बदलावों से भी अवगत कराया गया। इस अवसर पर मौजूद अधिकारियों ने विद्यार्थियों की विभिन्न जिज्ञासाओं का भी समाधान किया। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना, डायरेक्टरयुवराज कृष्ण राणा, डायरेक्टर डॉ. गायत्री अग्निहोत्री, आरआईटीएस के एचओडी पंकज द्विवेदी तथा आरआईआर टी के एचओडी केजी किरार ने इस तकनीकी विजिट को संभव बनाने के लिए भारतीय रेल प्रशासन को धन्यवाद दिया है।

  More Detail
Current Event

राधारमण में एल्युमिनाय मीट संपन्न
25-01-2016

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूशंस परिसर में विगत दिवस एल्युमिनाय ्रमीट का आयोजन किया गया। इस मीट में समूह के इंजीनियरिंग के 2003 से लेकर अब तक के बैचों के विद्यार्थी बड़ी संख्या में शामिल हुए। खुशी, मौज मस्ती, रोमांच, भावुकता और पुरानी यादों को ताजा कर देने वाले अनेक भाव इस दौरान विद्यार्थियों के चेहरों पर देखे गए। फैकल्टी मेम्बर्स और वर्तमान विद्यार्थियों ने इन सभी का गर्मजोशी से स्वागत किया और इस अवसर को यादगार बनाने के लिए विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए। दिन भर चले इस आयोजन में बरसों से बिछुड़े दोस्त एक दूसरे के बारे में जानने-समझने और कॉलेज के दिनों की यादों को ताजा करते दिखे। एल्युमिनाय मीट के अध्यक्ष एवं समूह के 2007 के विद्यार्थी श्याम पाठक ने बताया कि वे राधारमण समूह का विद्यार्थी होने पर गर्व करते हैं। वर्तमान में वे एल एण्ड टी पावर समूह में 15 लाख रुपए के पैकेज पर नौकरी कर रहे हैं। वहीं एल्युमिनाय मीट समिति के सचिव पुष्पेन्द्र सिंह सिसोदिया ने बताया कि राधारमण में बतौर विद्यार्थी उन्होंने बहुत कुछ सीखा जिसका इस्तेमाल वे अपनी केनरा बैंक की नौकरी में बखूबी कर रहे हैं। इस अवसर पर समूह के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना ने कहा कि वर्ष 2003 में समूह की स्थापना से लेकर आज तक लगातार होती उन्नति से वे बेहद खुश हैं तथा वे अब अपने फैकल्टी मेम्बर्स, कर्मचारियों एवं अधिकारियों के सहयोग से ऐसे प्रयास की ओर अग्रसर है जिससे राधारमण समूह का नाम न केवल हिन्दुस्तान बल्कि पूरी दुनिया में रोशन हो। कार्यक्रम में मौजूद समूह के ग्रुप डायरेक्टर प्रोफेसर जे.एल. राणा ने इस मीट में आए सभी पूर्व विद्यार्थियों को जीवन में और तरक्की करने तथा समूह का नाम रोशन करने का संदेश दिया। कार्यक्रम में समूह के डायरेक्टर्स, फैकल्टी मेम्बर्स सहित विभिन्न अधिकारी एवं कर्मचारी मौजूद थे।

  More Detail
Current Event

राधारमण फैकल्टीज ने सीखे टेक्नीकल पेपर राइटिंग के गुर
19-01-2016

भोपाल। राधारमण समूह द्वारा अपने फैकल्टी मेम्बर्स के स्किल्स को निखारने के लिए आयोजित की जा रही स्किल डेवलपमेंट श्रृंखला के अंतर्गत विगत दिवस टेक्नीकल पेपर राइटिंग विषय पर एक दिवसीय सेमीनार का आयोजन किया गया। इस सेमीनार में अंग्रेजी भाषा व कम्युनिकेशन स्किल्स विषय विशेषज्ञा डॉ. श्रृद्धा गौड़ ने फैकल्टी मेम्बर्स को बताया कि तकनीकी पेपर्स लेखन रोजाना के लेखन से हटकर एक अलग तरह का स्किल है। इसमें पारंगत होने के लिए फैकल्टी मेम्बर्स को अपने एकेडमिक ज्ञान को सही शब्दों तथा उपयुक्त शैली में पिरोना आना चाहिए। इसमें विशेषज्ञता हासिल करने के लिए उन्हें न केवल अपने लिखे को बारीकी से पढऩा और समझना चाहिए बल्कि जाने-माने विशेषज्ञों द्वारा लिखे गए पेपर्स को भी पढऩा चाहिए। कार्यक्रम के दौरान उन्होंने फैकल्टी मेम्बर्स की जिज्ञासाओं का समाधान भी किया। इस अवसर पर समूह के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना ने इस सेमीनार को उपयोगी बताते हुए कहा कि ज्ञान का समुद्र अथाह है इसमें जो जितनी दूर तक डुबकी लगाता है उसके हाथ उतने ही मोती लगते हैं। उन्होंने फैकल्टी मेम्बर्स से कहा कि उन्हें नित अपने स्किल्स को और बेहतर बनाने का प्रयास करना चाहिए ताकि उनका व उनके विद्यार्थियों का स्तर और ऊंचा उठ सके

  More Detail
Current Event

राधारमण में फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम संपन्न
14-01-2016

भोपाल। अपने फैकल्टी मेम्बर्स के टीचिंग स्किल्स(क्वालिटी) को बढ़ाने के उद्देश्य से राधारमण इंजीनियरिंग कॉलेज द्वारा विगत दिवस एक दिवसीय फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम आयोजित किया गया। कॉलेज के सिविल इंजीनियरिंग विभाग के प्रमुख प्रोफेसर (डॉ.) अजय प्रताप सिंह इस कार्यक्रम के मुख्य वक्ता थे। हाऊ टू राइट टेक्नीकल रिसर्च पेपर विषय पर आधारित इस कार्यक्रम में फैकल्टी मेम्बर्स को वे टिप्स बताए गए जिनकी मदद से वे न केवल अपनी रिसर्च को और बेहतर बना सकते हैं बल्कि उनके अपने रिसर्च पेपर्स को इस तरह तैयार कर सकते हैं जिसका फायदा उनका अध्ययन करने वाले विद्यार्थियों या अन्य शोधकर्ताओं को मिल सके। इन टिप्स में अपने विषय को भली प्रकार समझाने, उसे रोचक व सटीक तरीके से समझाने, शोध से होने वाले लाभ व मिलने वाले समाधान आदि शामिल थे। इस कार्यक्रम में राधारमण समूह के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना, ग्रुप डायरेक्टर प्रोफेसर जे.एल. राणा, सीनियर डायरेक्टर डॉ. गायत्री अग्निहोत्री आदि उपस्थित थे। प्रोफेसर जे.एल. राणा ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि सीखना, समझना और शोध करते रहना एक शिक्षक के जीवन के अभिन्न अंग हैं। इन तीनों पर जो शिक्षक जितना काम करता है उसका कार्य उतना ही अधिक निखरता है और उसके विद्यार्थी और से हटकर प्रदर्शन करते दिखाई देते हैं।

  More Detail
Current Event

राधारमण एल्युमिनाय मीट 24 जनवरी को
11-01-2016

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के पूर्व विद्यार्थियों का सम्मेलन एल्युमिनाय मीट 2016 आगामी 24 जनवरी को समूह की रातीबड़ स्थित परिसर में आयोजित होगा। इस मीट में समूह के इंजीनियरिंग के 2003 से लेकर अब तक के बैचों के विद्यार्थी भाग लेंगे। यह मौका होगा बरसों से बिछुड़े दोस्तों से मिलने का और उनके बारे में जानने का। साथ ही उनकी यह मुलाकात न केवल उन्हें आपस में जोडऩे का काम करेगी बल्कि उनकी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ को बेहतर बनाने व एक-दूसरे की मदद से आगे बढऩे के अवसरों को खोलने का काम करेगी। यह राधारमण समूह व उसके फैकल्टी मेम्बर्स के लिए भी खुशी और गौरव का अवसर होगा। भावुकता, खुशी और ढेर सारे सरप्राइजेस से भरे पल इस कार्यक्रम में देखने को मिलेंगे। कॉलेज शिक्षा पूरी करने के बाद देश-दुनिया के कोने-कोने में चले गए विद्यार्थी इस मौके पर यहां पहुंचकर अपनी पुरानी यादों को ताजा करने के साथ साथ एक दूसरे के बारे में जानेंगे-समझेंगे।24 जनवरी को सुबह 10.30 बजे से आरंभ होने वाले इस कार्यक्रम में विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों से लेकर सम्मान समारोह तक विभिन्न गतिविधियां आयोजित होंगी। समूह ने इस आयोजन में भाग लेने सभी पूर्व विद्यार्थियों को सूचना भेजी है। विद्यार्थियों को इस कार्यक्रम के संबंध में और अधिक जानकारी समूह की वेबसाइट के अतिरिक्त ईमेल आईडी alumniassociation@radharamanbhopal.com अथवा मोबाइल क्रमांक 8959055333 पर प्राप्त की जा सकती है।

  More Detail
Current Event

राधारमण फैकल्टी को डॉक्टरेट उपाधि
04-01-2016

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के फैकल्टी मेम्बर जयपाल सिंह बिष्ट को मौलाना आजाद नेशनल इन्स्टीट्यूट ऑफ टेक्नालॉजी (मैनिट), भोपाल ने पीएचडी की उपाधि प्रदान की है। उन्हें यह उपाधि इन्वेस्टीगेशन ऑन कन्टेंशन रिजॉल्यूशन स्कीम्स फॉर ऑप्टिकल बस्र्ट स्विच्ड नेटवर्क विषय पर उनके द्वारा किये गए शोध पर दी गई। उन्हें यह उपाधि डॉ. आदित्य गोयल, डिपार्टमेंट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एण्ड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग, मैनिट, भोपाल के मार्गदर्शन में प्राप्त हुई। उल्लेखनीय है कि डॉ. जयपाल की दो पुस्तकें व 15 से अधिक शोध इंटरनेशनल रिसर्च जर्नल में प्रकाशित हो चुके हैं। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के ग्रुप डायरेक्टर प्रोफेसर (डॉ.) जे.एल. राणा, अन्य डायरेक्टर्स एवं सभी फैकल्टी मेम्बर्स ने डॉ. जयपाल को उनकी इस उपलब्धि पर बधाई दी है। समूह के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना ने कहा कि डॉ. जयपाल सिंह बिष्ट की इस उपलब्धि के साथ समूह में पहले से बड़ी संख्या में मौजूद पीएचडी प्राप्त फैकल्टी मेम्बर्स में वृद्धि हुई है जिसका लाभ इलेक्ट्रॉनिक्स एवं कम्युनिकेशन विषय के विद्यार्थियों को मिलेगा।

  More Detail
Current Event

राधारमण ओपन कैम्पस में 10 विद्यार्थी चयनित
29-12-2015

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स परिसर में देश की अग्रणी फायनेंशियल मार्केट एनालिस्ट कंपनी ट्रायफिड रिसर्च द्वारा आयोजित ओपन कैम्पस में 10 विद्यार्थी चयनित हुए हैं। इस कैम्पस में प्रदेश के विभिन्न महाविद्यालयों के वर्ष 2014 से 2016 तक के बैच के सभी स्पेश्यलाइजेशन के एमबीए विद्यार्थी सम्मिलित हुए थे। कपनी से आए अधिकारियों ने पावर पाइंट प्रजेंटेशन, ग्रुप डिस्कशन एवं पर्सनल इंटरव्यू के जरिए विद्यार्थियों की योग्यता का आंकलन किया। इन चरणों को सफलतापूर्वक पार करने वाले 10 विद्यार्थियों को कंपनी ने अंतिम रूप से चयनित किया। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना ने सभी चयनित विद्यार्थियों को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है। उल्लेखनीय है कि राधारमण समूह द्वारा प्रदेश के अन्य महाविद्यालयों में अध्ययनरत विद्यार्थियों को भी रोजगार के अवसर दिलाने के उद्देश्य से ऐसे ओपन कैम्पसों का आयोजन समय समय पर किया जाता है। इन कैम्पसों के जरिए समूहों हजारों विद्यार्थियों को रोजगार उपलब्ध करा चुका है।

  More Detail
Current Event

राधारमण में सिविल इंजीनियरिंग विषय में करियर आपरचूनिटीज विषय पर सेमीनार आयोजित
21-12-2015

भोपाल, 19 दिसम्बर, 2015 : सिविल इंजीनियरिंग डिग्री कन्स्ट्रक्शन इण्डस्ट्री में काम करने के लिए तैयार करती है। साथ ही साथ यह डिग्री व्यापक परिदृश्य में बिजनेस, मैनेजमेंट और फायनेंशियल सेक्टर भी में रोजगार के दरवाजे खोलती है। इस डिग्री को प्राप्त कर आप बिल्ंिडग कंट्रोल सुपरवाइजर, कन्सलटिंग सिविल इंजीनियर, कान्ट्रेक्टिंग सिविल इंजीनियर, साइट इंजीनियर, स्ट्रक्चरल इंजीनियर तथा वाटर इंजीनियर जैसी महत्वपूर्ण भूमिकाओं को निभा सकते हैं। इन भूमिकाओं के लिए कन्स्ट्रक्शन सेक्टर सहित ट्रांसपोर्ट व कम्युनिकेशन से जुड़े इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट के क्षेत्र में भरपूर रोजगार उपलब्ध हैं। उक्त बात आज राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूटस परिसर में चल रही एक्सपर्ट लेक्चर सीरिज के तहत आयोजित एक सेमीनार में आरईसी के सिविल इंजीनियरिंग विभागाध्यक्ष डॉ. अजय प्रताप सिंह ने कही। यह सेमीनार करियर ऑपरचूनीटिज फॉर सिविल इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स विषय पर आयोजित किया गया था। डॉ. सिंह ने अपने उद्बोधन में सिविल इंजीनियरिंग विषय के बारे में विस्तार से जानकारी दी तथा विद्यार्थियों की जिज्ञासाओं का समाधान किया। इस अवसर पर राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना ने कहा कि ऐसे लैक्चर विद्यार्थियों के लिए अत्यंत उपयोगी साबित होते हैं और उन्हें पढ़ाए जा रहे विषयों के क्षेत्र में मौजूद अवसरों की गहन जानकारी प्राप्त होती है।

  More Detail
Current Event

राधारमण विद्यार्थियों ने दिखाए सेलिंग स्किल, जीते पुरस्कार
19-12-2015

भोपाल। राधारमण ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूट्स परिसर विगत दिवस विदेशी पास्ता से लेकर देशी चाट तक लजीज पकवानों की खुशबू से महकती नजर आई। मौका था एमबीए विद्यार्थियों द्वारा आयोजित एक दिवसीय फूड फेस्टीवल का। विद्यार्थियों की सेलिंग व मार्केटिंग स्किल्स को आजमाने के लिए आयोजित इस फूड फेस्टीवल में विभिन्न समूहों में विद्यार्थियों ने 8 स्टाल लगाए। दिन भर चली इस अनूठी प्रतियोगिता का औपचारिक उद्घाटन समूह के चेयरमेन आर.आर. सक्सेना ने किया। समूह की सीनियर डायरेक्टर प्रोफेसर (डॉ.) गायत्री अग्निहोत्री ने अपने उद्बोधन में कहा कि यह प्रतियोगिता विद्यार्थियों को मनोरंजन के साथ साथ अपने सेलिंग स्किल्स बढ़ाने का अवसर प्रदान करेगी। इस अवसर पर एमबीए विभाग के एचओडी सहित विभिन्न फैकल्टी मेम्बर्स मौजूद थे। प्रतियोगिता के लिए तय मानदण्डों के अनुरूप बिक्री करने वाले समूहों को इस अवसर पर पुरस्कृत किया गया। पहला पुरस्कार टेस्ट एण्ड ट्विस्ट ग्रुप की मंशा, सृष्टि, मंजू और राखी को मिला जबकि देशी कलाकार समूह के यशवंत, भुवनेश्वर, दीपक व संजय ने दूसरा पुरस्कार हासिल किया। पुडिंग कार्नर की मोनालिसा, मोनिका, सुमित और नंदिनी को सेकण्ड रनर अप पुरस्कार दिया गया।

  More Detail
PREV 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 NEXT